बड़ागणेश मंदिर में हुआ संगीत संध्या का आयोजन

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

स्वर्णकारों द्वारा 70 सालों से हो रहे आयोजन हुआ संपन्न

वाराणसी। लगभग 70 सालों से स्वर्णकारों द्वारा प्रारंभ किए गए श्री बड़ा गणेश जी के श्रृंगार की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए बुधवार को वार्षिक श्रृंगार के अवसर पर देर रात तक संगीत संध्या का आयोजन किया गया। लगभग 70 साल पूर्व भैरवनाथ निवासी स्वर्गीय लुल्ली सेठ द्वारा वासन्तिक नवरात्रि में प्रारंभ किए गए श्रृंगार को उनके पुत्र स्वर्गीय मनाऊ सेठ द्वारा आयोजित किया जाता रहा। उनके निधन के पश्चात वर्तमान में उनके पुत्र अशोक कुमार सेठ (टोपी वाले) के नेतृत्व में उक्त कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। ज्ञात हो कि यह कार्यक्रम चैत्र नवरात्रि में प्रथम बुधवार के दिन किया जाता है, जो सभी स्वर्णकार बंधुओं के सहयोग से यह कार्यक्रम होता चला आ रहा है। बुधवार की शाम श्री बड़ा गणेश जी महाराज का 56 लोगों से भोगों से श्रृंगार किया गया तत्पश्चात संगीत संध्या का आयोजन हुआ। आयोजन में प्रसिद्ध कथक नृत्यांगना डॉक्टर ममता टंडन, माता प्रसाद मिश्र, रवि शंकर मिश्र, सोनी सेठ तथा मांडवी मिश्रा ने कत्थक नृत्य की प्रस्तुति की।

सागर मिश्रा के गायन के साथ प्रख्यात तबला वादक पंडित भोलानाथ मिश्र ने प्रस्तुति दी।
कार्यक्रम के दौरान आशीर्वाद संगीतालय पांडेय हवेली की डॉक्टर जया राय के संयोजन में छात्राओं ने लोक नृत्य की भी शानदार प्रस्तुति की।
अभ्यागतों का स्वागत संयोजक अशोक कुमार सेठ (टोपी वाले) तथा उनके दोनों पुत्र गणेश सेठ और राम बाबू सेठ ने किया।
मालूम हो कि मानस सत्संग मंडल भैरवनाथ के संचालक अशोक कुमार से (टोपी वाले) आज भी प्रत्येक रविवार को अपने आवास पर एक-दो घंटे रामचरितमानस का पाठ का आयोजन करते हैं।
कार्यक्रम के दौरान गिरीश चंद सेठ, मदन सेठ, रविशंकर सिंह, राजेश सेठ, किशोर कुमार सेठ, राजू वर्मा, अनुज गौतम, ममता सेठ, रश्मि सेठ, पूजा सेठ, सोनी सेठ सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।