पर्यावरण क्रांति मित्र ट्रस्ट के पहल पर अधिकारियों ने बालू अवैध खनन पर मारा छापा

कृपा शंकर चौधरी ब्यूरो गोरखपुर

गोरखपुर। झंगहा क्षेत्र के करही घाट के पास हो रहे अवैध बालू खनन की शिकायत पर एसडीएम चौरीचौरा रजत वर्मा ने खनन विभाग के निरीक्षक जितेंद्र शर्मा के साथ छापेमारी किया गया। बालू खनन करने वाले तो मौके से फरार हो गए थे लेकिन झंगहा चौराहे पर बिना नंबर प्लेट की मिट्टी लदी डंफर को पकड़कर झंगहा पुलिस को सौंप दिया गया।

दरअसल पर्यावरण जीवन का आधार है और इस पर पर्यावरण क्रांति मित्र ट्रस्ट के द्वारा निरंतर कार्य जारी है। ट्रस्ट द्वारा पर्यावरण को प्रदूषित करने वाले लोगों पर शिकंजा कसने का प्रयास किया जाता रहा है साथ ही नदियों के भीतर से खनन कर बालू को अवैध ढंग से बेचने के कार्य पर भी नजर है। इसी संबंध में पर्यावरण कांति मित्र ट्रस्ट के राष्ट्रीय महासचिव राधेश्याम सेहरा द्वारा 13 अप्रैल को पत्र के माध्यम से शासन कोअवगत कराया गया कि गोरखपुर के तहसील चौरी चौरा थाना झंगहा अंतर्गत ग्राम पंचायत करही के गोर्रा नदी के घाट से रसूखदार बालू खनन माफियाओं द्वारा कई वर्षों से गोर्रा नदी का सीना चीर कर सफेद बालू अवैध ढंग से खनन कर सड़क का निर्माण करने वाले ठेकेदारों एवं आम लोगों को मुंह मांगी कीमत पर बेचते हैं और करोड़ों की कमाई कर मालामाल हो रहे हैं। स्थानीय प्रशासन के संबंधित अधिकारी कर्मचारी मूकदर्शक बनकर तमाशा देख रहे हैं। यदि इस अवैध बालू खनन की किसी व्यक्ति द्वारा शिकायत की जाती है तो उसे भद्दी भद्दी गालियां दी जाती हैं तथा जान से मारने तक की धमकी दी जाती है। हालत यह है कि डर के मारे कोई व्यक्ति ग्राम पंचायत करही के गोर्रा नदी घाट की तरफ से आता जाता नहीं है।

पर्यावरण क्रांति मित्र ट्रस्ट के संरक्षक जमशेद ने बताया कि दरअसल इन बालू खनन माफियाओं की स्थानीय प्रशासन में अच्छी पकड़ बताई जाती है जिसका नतीजा है कि प्रशासन मूकदर्शक बनकर रह गई है। पत्र के माध्यम से कहां गया था कि गोर्रा नदी के अवैध बालू खनन माफिया शासन को चुनौती दे रहे है एवं जनता को जानमाल की धमकी भी साथ ही इस तरह के कृत्य से सरकार की छवि भी धूमिल हो रही है। पत्र में निवेदन किया गया था कि पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से नदी का सीना चीर कर बालू खनन कर खोखला करने वाले बेखौफ बालू माफियाओं के विरुद्ध जांच कराकर कठोर दंडात्मक कार्रवाई किए जाने की जरूरत है।

पर्यावरण क्रांति मित्र ट्रस्ट द्वारा इस पत्र को प्रमुख सचिव राजस्व/ खनन उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ, आयुक्त गोरखपुर मंडल गोरखपुर, जिलाधिकारी गोरखपुर, उप जिलाधिकारी चौरी चौरा, जिला खनन अधिकारी गोरखपुर को प्रेषित किया गया था ताकि इस पर कार्रवाई कर पर्यावरण को बचाया जा सके एवं रेत खनन माफियाओं पर अंकुश लगाया जा सके।

पत्र का संज्ञान लेते हुए जिले स्तर एवं स्थानीय स्तर के अधिकारियों द्वारा मौके पर पहुंचकर जायजा लिया गया और आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की गई इसके लिए पर्यावरण क्रांति मित्र ट्रस्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष मोहम्मद जमशेद जिद्दी ने अधिकारियों को धन्यवाद दिया है एवं पर्यावरण को बचाने हेतु कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाले मित्रों को भी धन्यवाद ज्ञापित किया है।