सम्पादकीय

“शिक्षा का वास्तविक स्वरूप और उसका महत्व”

कृपा शंकर पाण्डेय शिक्षक बेतिया बिहार शिक्षा का अर्थ व स्वरूप:- शिक्षा शब्द की व्युत्पत्ति शिक्ष धातु से हुई है...

Read more

सर्वग्रासी पूंजीवाद से बढता शूद्रीकरण

लेखक – नरसिंह, पूर्व प्रबंध संपादक, भोजपुरी वार्ता जिस दिन विप्र ने अपनी बुद्धि वैश्य के पास गिरवी रखी उसी दिन से...

Read more

वर्तमान परिस्थितियों से उज्ज्वल भविष्य के संकेत

कृपा शंकर पाण्डेय , शिक्षक बेतिया बिहार वर्तमान परिस्थितियों से उज्ज्वल भविष्य के संकेत महाभारत इतिहास के अंतर्गत गण्य है।...

Read more

जलवायु परिवर्तन :- नहीं सुधरे तो और खामियाजा भुगतना होगा मनुष्य जाति को

लेखक- अनिल कुमार पाण्डेय ( सचिव प्राकृतिक संपदा संरक्षण समिति गोरखपुर ) मनुष्य और प्रकृति का संबंध अत्यंत गहरा और...

Read more

समग्र विकास के लिए जाति मजहब से उपर उठकर मानवतावाद की आवश्यकता

कृपा शंकर चौधरी https://tahkikatnews.in/ समग्र विकास के लिए जाति मजहब से उपर उठकर मानवतावाद की आवश्यकता जब भी कोई सरकार...

Read more

प्रगतिशील उपयोग तत्त्व(प्रउत) औऱ आज की समस्याएं

लेखक - नरसिंह, पूर्व प्रबंध संपादक, भोजपुरी वार्ता सभी प्राणी एक कोशिकीय प्राण देह धारी अग्रसर चित्त से लेकर बोधि...

Read more